A Psalm Of Life

Henry Wadsworth Longfellow

About The Author

Henry Wadsworth Longfellow (February 27, 1807 – March 24, 1882) was an American poet and educator whose works include "Paul Revere's Ride", The Song of Hiawatha, and Evangeline. He was the first American to translate Dante Alighieri's Divine Comedy and was one of the Fireside Poets from New England.

pslam.png

About The Poem

"A Psalm of Life" is a poem written by American writer Henry Wadsworth Longfellow, often subtitled "What the Heart of the Young Man Said to the Psalmist".[1] Longfellow wrote the poem not long after the death of his first wife and while thinking about how to make the best of life. It was first published anonymously in 1838 before being included in a collection of Longfellow's poems the next year. Its inspirational message has made it one of Longfellow's most famous poems.

A Psalm Of Life

by:  Henry Wadsworth Longfellow

Tell me not, in mournful numbers,
Life is but an empty dream!
For the soul is dead that slumbers,
And things are not what they seem.

 

Life is real! Life is earnest!
And the grave is not its goal;
Dust thou art, to dust returnest,
Was not spoken of the soul.

Not enjoyment, and not sorrow,
Is our destined end or way;
But to act, that each tomorrow
Find us farther than today.

 

Art is long, and Time is fleeting,
And our hearts, though stout and brave,
Still, like muffled drums, are beating
Funeral marches to the grave.

In the world’s broad field of battle,
In the bivouac (बिवू ऐक)of Life,
Be not like dumb, driven cattle!
Be a hero in the strife!

Trust no Future, howe’er pleasant!
Let the dead Past bury its dead!
Act,—act in the living Present!
Heart within, and God o’erhead!

 

Lives of great men all remind us
We can make our lives sublime,
And, departing, leave behind us
Footprints on the sands of time;—

Footprints, that perhaps another,
Sailing o’er life’s solemn main,
A forlorn and shipwrecked brother,
Seeing, shall take heart again.

 

Let us, then, be up and doing,
With a heart for any fate;
Still achieving, still pursuing,
Learn to labor and to wait.

जो होगा देखा जाएगा

Transcreated by
Vineet KKN ‘Panchhi’

ग़मगीन हो के, मुझे न बताओ ,

के ज़िंदगी एक बे-मक़सद ख़ाब है...

अगर रोना-धोना है, तो भाई! कहीं और जाओ,

क्यूँके, इंसान को वही दिखता है,

जो इंसान देखने को बेताब है...

ग़मगीन हो के, मुझे न बताओ ,

के ज़िंदगी एक बे-मक़सद ख़ाब है...

ये ज़िंदगी है इसको

इतना हल्का भी मत समझो

के ये बस मौत तक पहुँचने का ज़रिया दिखने लगे

“सब धूल में मिल जाएगा” –को इतनी तवज्जो न दो

के बदन के साथ रूह भी पिसने लगे

ये ज़िंदगी है इसको,

 इतना हल्का भी मत समझो

के ये बस मौत तक पहुँचने का ज़रिया दिखने लगे

ज़िंदगी की राह पे, ग़म और खुशी तो आएँगे,

ज़िंदगी का मक़सद लेकिन, इससे काफ़ी आगे है,

आज से कल हो बेहतर,

कल से बेहतर, और इक कल हो,

कुछ काम से, कुछ सीख के, हमने ऐसे रस्ते नापे हैं

ज़िंदगी का मक़सद लेकिन, इससे काफ़ी आगे है,

वक़्त निकल जाता है, दोस्त!

और काम अधूरा रह जाता है,

कितना किसके हाथ लगा

यहीं पे पूरा रह जाता है

जंग का है मैदान ये दुनिया,

कभी ना-समझी, कभी भेड़चाल है,

भेड़ बनेगा, या तू हीरो,

तेरे हाथ में तेरा हाल है ...

जंग का ये मैदान है दुनिया,

ना-समझी कभी भेड़चाल है,

जो गुज़र गया, उसे जाने दे,

जो कल होगा, उसे रहने दे,

तू आज, अभी की बातें कर,

तू ख़ुद को आज में रहने दे

जितने भी क़ाबिल लोग हुए,

सब बात यही बतलाते है

इस रेत पे जीवन की देखो

सब आते हैं सब जाते है...

कुछ आए, आ कर चले गए ,

न याद रहे, न याद किए,

कुछ के क़दमों के निशां मगर

इस रेत पे क्यूँ रह जाते हैं?

जितने भी क़ाबिल लोग हुए

सब बात यही बतलाते है

इन क़दमों को हम देख के फिर

कहते हैं कोई आया था,

जिसने जीना है कैसे हमको

क़दम-क़दम सिखलाया था

कहते हैं कोई आया था

अब उठो, बचा है काम अभी,

जो होगा, देखा जाएगा

हम काम करें, फल का क्या है,

जब आएगा, तब आएगा

 

अब उठो, बचा है काम अभी,

जो होगा, देखा जाएगा