अंधेरे का दीपक

हरिवंशराय बच्चन

About The Author

Harivansh Rai Bachchan ( Srivastava; 27 November 1907 – 18 January 2003) was an Indian poet and writer of the Nayi Kavita literary movement (romantic upsurge) of early 20th century Hindi literature. He was also a poet of the Hindi Kavi Sammelan. He is best known for his early work Madhushala.[3] He was also the husband of social activist, Teji Bachchan, father of Amitabh Bachchan and Ajitabh Bachchan, and grandfather of Abhishek Bachchan. In 1976, he received the Padma Bhushan for his service to Hindi literature.[

More about ' Harivansh Rai Bachchan: Wikipedia Harivansh Rai Bachchan

27_11_2019-bachchan_19793691.jpg

About The Poem
हरिवंशराय बच्चन ने “अँधेरे का दीपक” के माध्यम से मानव-जीवन में आशावादी एवं सकारात्मक दृष्टिकोण के महत्त्व को प्रतिपादित करने के कोशिश की है। कवि के अनुसार मानव-जीवन में सुख-दुख आते-जाते रहते हैं। किसी दुख से घबराकर पूर्णत: निराश होकर बैठ जाना अनुचित है। प्रकृति हमें आशावाद का संदेश देती है।

अँधेरे का दीपक

by: Harivansh Rai Bachchan

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था,

भावना के हाथ ने जिसमें वितानों को तना था,

स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा,

स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था,

ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर, कंकड़ों को

एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

बादलों के अश्रु से धोया गया नभ-नील नीलम

का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम

प्रथम ऊषा की किरण की लालिमा सी लाल मदिरा थी

उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम,

 

वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनों हथेली,

एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

 

क्या घड़ी थी, एक भी चिंता नहीं थी पास आई,

कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी न छाई,

आँख से मस्ती झपकती, बात से मस्ती टपकती,

थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई,

 

वह गई तो ले गई उल्लास के आधार, माना,

पर अथिरता पर समय की मुसकराना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिनमें राग जागा,

वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा,

एक अंतर से ध्वनित हो दूसरे में जो निरंतर,

भर दिया अंबर-अवनि को मत्तता के गीत गा-गा,

अंत उनका हो गया तो मन बहलने के लिए ही,

ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय, वे साथी कि चुंबक लौह-से जो पास आए,

पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए,

दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर

एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए,

 

वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे,

खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना,

 

कुछ न आया काम तेरा शोर करना,

गुल मचाना, नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका,

किंतु ऐ निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना,

जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से,

 

पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

 

Lighting the candle of hope

Transcreated by:
Vandana Bhasin

A delicate home crafted fondly with imagination
Enriched with love and heartfelt emotions

Adorned affectionately with hopeful dreams,

Vivid colors and vibrant schemes,
If that mansion of love, alas! collapsed,

Will you collect the dust and every last brick?

To recreate a place, serene and thick

The night is dark, may get darker too, 

But from lighting your lamp…

Who is stopping you?

 

An indigo, bejeweled, alluring glass,

Designed with spectrum of celestial hues

With intoxicating drink shimmering like crimson rays at dawn 

Akin to lightning, through clouds that shines through

If that glass has broken to irreparable pieces

Will you use your palms to quench your thirst?

From the stream of water that flows through greens 

The night is dark, may get darker too, 

But from lighting your lamp…

Who is stopping you?

 

A moment in time when worries stood at bay

Even the shadow of darkness couldn’t make its way
When eyes burst with joy, words echoed delight
And jubilant laughter mirrored the freedom of skies
If those blissful moments have faded, robbing off all ecstasy,
Then what stops you from smiling in the face of such adversity,

The night is dark, may get darker too, 

But from lighting your lamp…

Who is stopping you?

 

When gushes of musical insanity ruled the mind

And melodious rhapsody was the wealth defined

When symphony tied the strings of hearts
And spread its magic in realms unassigned
If such a melody is lost in the sands of time

Then why can’t you cheer by humming a new line
The night is dark, may get darker too, 

But from lighting your lamp… Who is stopping you?

 

, When a dear one captivated your heart
And in no time became your sweetheart
And life waltzed to the rhythm of a love song

Like notes of a guitar aligned to sing along
If such a beloved, deserts you in quandary

Why deprive yourself of love of other’s company

The night is dark, may get darker too, 

But from lighting your lamp…

Who is stopping you?

 

The storm may uproot your loving mansion

Screams and wails may get no compassion

Who has ever been able to stop what happens?

What you need to answer to is 

If you will build it again and put all your passion …

The night is dark, may get darker too,

But from lighting your lamp…

Who is stopping you?