Love After Love 

 

Derek Walcott

“Love After Love” is a poem of consolation addressed to anyone who's suffered a breakup or other romantic disappointment. Assuring such sufferers that things will get better, the speaker depicts the recovery process as one of reconnecting with—and relearning to love—one's inner self.

walcott.jpg

 Love After Love

by:  Derek Walcott

The time will come when, 

with elation you will greet yourself 

arriving at your own door, 

in your own mirror,

and each will smile at the other's welcome,

and say, sit here. 

Eat.


 

You will love again the stranger 

who was your self.

Give wine. Give bread. 

Give back your heart to itself, 

to the stranger 

who has loved you all your life, 

whom you ignored for another, 

who knows you by heart.

 

 

 

Take down the love letters from the bookshelf,

the photographs, the desperate notes,

peel your own image from the mirror.

Sit. 

Feast on your life.

 

Give back your heart to itself, to the stranger 

who has loved you all your life. 

Sit. 

Feast on your life.

ख़ुद को फिर से घर ले आओ

TTranscreated by;'Ambar' Kharbanda And                                                              Vineet KKN 'Panchhi'

एक वक़्त आएगा ऐसा

जब तुम अपने आप को शायद

गले लगा के बात करोगे

दरवाज़ों से बुला के अंदर 

आइनों में देख के ख़ुद को 

मुस्कुराओगे 

बैठाओगे 

शायद कुछ खिलाओगे 

मुलाक़ात करोगे 

गले लगा के बात करोगे



 

अपने ही घर में जब तुमको

एक अजनबी मिल जाएगा

उसे आईने में फिर पाकर

मन का बाग़ भी खिल जाएगा

 

भूले-बिसरे कुछ लम्हों को

भूली-बिसरी कुछ बातों को

फिर से, दिल से याद करोगे

मिल बैठोगे, बात करोगे

 

वही अजनबी जिसको तुमने

इक मुद्दत से भुला रखा था

अपने मन की गहरी परतों

में तुमने ही छुपा रखा था

 

हाँ, वो तुम थे, तुम ही थे वो

जो ख़ुद ही से दूर हो गए

दुनियादारी के क़िस्सों से

तुम शायद मजबूर हो गए


 

बहुत प्रेम से तुमने जितने 

ख़त लिक्खे थे, प्यार किया था

तस्वीरें, जीने का वा’दा

ख़ुद से जो सौ बार किया था

 

उसको फिर से घर ले आओ

साथ में बैठो, साथ निभाओ 

फिर से ख़ुद को प्यार करो तुम

फिर से ख़ुद को गले लगाओ

 

ख़ुद को फिर से घर ले आओ

फिर से ख़ुद को गले लगाओ