Why I Smile 

Kate Slaughter McKinney

About The Author

Kate Slaughter McKinney (February 6, 1859 – March 2, 1939) was an author and poet who used the pen-name of Katydid. In 1931, she was elected Poet Laureate of the State of Alabama.

More About 'McKinney' Wikipedia Kate Slaughter Mckinney

Kate_Slaughter_McKinney.jpg

About The Poem
​'
Why I Smile' by Kate Slaughter Mckinney is a poem that talks about gratitude, being grateful to all the things around-the blue sky,  a true friend etcetra. In fact we always get more than what we ask or wish to get, even the smallest thing in life gives us pleasure, if we try to seek the beauty in it.

Why I Smile

by: Kate Slaughter McKinney

I smile because the world is fair;
Because the sky is blue.
Because I find, no matter where
I go, a friend that’s true.
I smile because the earth is green,
The sun so near and bright,
Because the days that o’er us lean
Are full of warmth and light.  

 smile as past the yards I go,
Though strange and new the place,
The violets seem my step to know,
And look up in my face.
I smile to hear the robin’s note.
He comes so newly dressed,

A love song throbbing in his throat,
A rose pinned on his breast.
And so the truth I’ll not disown,
Because the spring is nigh;
My heart has somewhat better grown,
And I forget to sigh.  

 

ख़ुश हूँ मैं
लेखक :
 केट स्लॉटर मक्किनी

Transcreated by
'Ambar' Kharbanda

मैं ख़ुश हूँ क्योंकि ये दुनिया सुंदर है और बहुत भली है, 
धरती पर हर ओर यहाँ पर हरियाली ही हरियाली है, 
नीलगगन भी मनमोहक है सूरज भी तो मेहरबान है,  
कितने प्यारे दिन हैं देखो कितनी प्यारी धूप खिली है...

 

जहाँ-जहाँ भी गया वहीं पर मुझको लोगों ने अपनाया,  
अनजाने रस्तों ने भी तो मुझको बढ़ कर गले लगाया,  
अच्छे-सच्चे दोस्त मुझे तो अक्सर मिलते ही रहते हैं, 
मैं ख़ुश हूँ मैंने दुनिया को उम्मीदों से बेहतर पाया... 

मुझे ख़ुशी होती है जब भी ‘रोबिन’ आता दिख जाता है,  
नए-नए रंग-रूप में सज कर वो प्यारे नग़्मे गाता है, 
उस पंछी को देख के दिल में लहरें उठती हैं ख़ुशियों की, 
आने वाली है बहार वो ऐसे संदेसे लाता है... 

 

सुन्दरता की, अच्छेपन की मुझको हरदम झलक मिली है, 
मैं ख़ुश हूँ क्योंकि दुनिया में चारों ओर ख़ुशी बिखरी है,  
अब उदास रहना भी मैंने यारो! इकदम भुला दिया है,
मैं ख़ुश हूँ क्योंकि ये दुनिया सुंदर है और बहुत भली है.
मैं ख़ुश हूँ क्योंकि ये दुनिया सुंदर है और बहुत भली है.