Still I Rise

Maya Angelou

About The Author

Maya Angelou was an American poet, memoirist, and civil rights activist. She published seven autobiographies, three books of essays, several books of poetry, and is credited with a list of plays, movies, and television shows spanning over 50 years. She received dozens of awards and more than 50 honorary degrees.

More About 'Maya Angelou': Wikipedia Maya Angelou

cahalloffame_mayaangelou 2.png

About The Poem

Still I Rise” is primarily about self-respect and confidence. In the poem, Angelou reveals how she will overcome anything through her self-esteem. She shows how nothing can get her down. She will rise to any occasion and nothing, not even her skin color, will hold her back. “You may write me down in history.

More About the Poem: Wikipedia 'Still I Rise'

Still I Rise

by:
Maya Angelou

You may write me down in history

With your bitter, twisted lies,

You may trod me in the very dirt

But still, like dust, I'll rise.

Does my sassiness upset you?

Why are you beset with gloom?

’Cause I walk like I've got oil wells

Pumping in my living room.

Just like moons and like suns,

With the certainty of tides,

Just like hopes springing high,

Still I'll rise.

Did you want to see me broken?

Bowed head and lowered eyes?

Shoulders falling down like teardrops,

Weakened by my soulful cries?

 

Does my haughtiness offend you?

Don't you take it awful hard

’Cause I laugh like I've got gold mines

Diggin’ in my own backyard.


 

You may shoot me with your words,

You may cut me with your eyes,

You may kill me with your hatefulness,

But still, like air, I’ll rise.

 

Does my sexiness upset you?

Does it come as a surprise

That I dance like I've got diamonds

At the meeting of my thighs?

Out of the huts of history’s shame

I rise

Up from a past that’s rooted in pain

I rise

I'm a black ocean, leaping and wide,

Welling and swelling I bear in the tide.

 

Leaving behind nights of terror and fear

I rise

Into a daybreak that’s wondrously clear

I rise

Bringing the gifts that my ancestors gave,

I am the dream and the hope of the slave.

I rise

I rise

I rise.

फिर से उठ कर छा जाऊँगी

लेखक :
माया एंजेलो
Transcreated By:
'Ambar' Kharbanda

तुम चाहो तो झूट बोल कर मुझे अकेला कर सकते हो

मेरे नाम को तुम चाहो तो इकदम मैला कर सकते हो

लेकिन मैं तो फिर भी इस मक्कारी से टकरा जाऊँगी

जैसे धूल उठा करती है वैसे उठ कर छा जाऊँगी

 

क्यों मेरा यूँ तन कर चलना तुमको ठीक नहीं लगता है

क्यों मेरा यूँ बातें करना तुमको ख़ूब चुभा करता है

हाँ, मैं तो जीती जाती हूँ हरदम अपनी ही मस्ती में

हाँ, मैं यूँ रहती हूँ जैसे दुनिया हो मेरी मुट्ठी में

 

जैसे हर दिन बड़े नियम से सूरज-चाँद उगा करते हैं

बिना किसी छुट्टी के ज्यों सागर में ज्वार उठा करते हैं

उम्मीदें उठ कर जैसे छू लेती हैं इक ऊँचाई को

उसी तरह के मेरे मन में भी कुछ भाव जगा करते हैं

(बिना किसी छुट्टी के ज्यों सागर में ज्वार उठा करते हैं)

 

हँसती हूँ जैसे मेरे घर दौलत के अम्बार लगे हों

यूँ चलती हूँ जैसे सोने-चाँदी के बस ढेर सजे हों

शायद मेरा हँसना, यूँ ख़ुश रहना तुमको चुभ जाता है

मेरा यूँ मस्ती में जीना शायद तुम्हें नहीं भाता है

 

हाँ, इतिहास के पन्नों की झूठी बातों से बाहर आकर

डर की काली रातों की हर एक चुनौती को ठुकरा कर

मैं उट्ठूंगी  फिर से जैसे सुबह सुहानी आ जाती है

गुज़रे हुए समय की सारी मुश्किल को इकदम बिसरा कर

(डर की काली रातों की हर एक चुनौती को ठुकरा कर)

 

चाहो तो मेरे बारे में जैसी भी तुम बातें कर लो

तुम इस नफ़रत की आँधी में, मुझको जी भर शामिल कर लो

लेकिन नहीं सोचना बिलकुल मैं इनसे घबरा जाऊँगी 

जैसे धूल उठा करती है वैसे उठ कर छा जाऊँगी 

जैसे धूल उठा करती है फिर से उठ कर छा जाऊँगी

फिर से उठ कर छा जाऊँगी