Cheerfulness  

 Edwin Oscar Gale

About The Author

Edwin Oscar Gale (1832- 1916). Edwin  O.  Gale  is  one  of  the  oldest  and  best-known residents  of  this  Chicago city. His much acclaimed work includes  'Reminiscences  of  Early  Chicago  and Vicinity,'  In this he carries  his  reader  back  to  the time  when  there  were  more  Indians  in  Chicago  than  white people.  Mr.  Gale  accompanied  his  parents  to  the  hopeful young  city  on  May  25,  1835,  and  since  that  day  his  life has  been  bound  up  in  the  growth  of  the  great  city,  which he  has  had  the  privilege  of  observing.

Edwin Oscar Gale image.jpg

About The Poem

Cheerfulness

by:
Edwin Oscar Gale

As placid lake reflects the sun,

Which ruffled cannot do,

Your cheerful face to every one

Returns like smiles to you.

The loved, who look to us when night

Gives respite to our cares,

Grow stronger when our faces, bright

Reflect the smiles of theirs.

 

Clouds do not melt the winter's snow,

Nor lift the ice from streams,

The crystal diamonds fail to flow

Till warmed by solar beams.

The nightshade thrives in gloomy meads,

But roses in the sun,

And hearts soon grow but noxious weeds

If smiles their portals shun.

 

We turn unto a happy face

As magnet to its star;

The frowns that may awhile deface

By smiles soon scattered are.

 

We to ourselves and others owe

Kind words and gentleness,

Whatever kindness we bestow,

Returns ourselves to bless.

ख़ुशियाँ बाँटिये

लेखक :
एडविनऑस्कर गेल
Transcreated By:
'Ambar' Kharbanda

शांत झील के पानी में अक्सर सूरज इठलाता है

लेकिन लहरें हों तो उसका अक्स कहीं खो जाता है

इसी तरह मुस्काते चेहरे दिल में घर कर जाते हैं

मुस्काते चेहरे ही मुस्कानों के फूल खिलाते हैं

 

बादल छाएँ तो सर्दी की बर्फ़ पिघलती नहीं, सुनो

नदिया भी रफ़्तार से अपनी धुन में चलती नहीं, सुनो

छाया घनी अगर हो तो फिर खर-पतवार ही उगती है

पर गुलाब खिलने हों तो सूरज की ज़रुरत पड़ती है

 

खिले-खिले चेहरे पर जब-जब भी मुस्कान बिखरती है

देखो तो कितने चेहरों की दूर उदासी करती है

जो ख़ुशियाँ हम बाँटें वो हम को ही ख़ुशी दे जाती हैं

जो भी हम देते हैं वो फिर लौट हमीं तक आती हैं

 

दुनिया का भी हक़ है और हम को भी बड़ी ज़रुरत है

खिलते चेहरे, प्यारे शब्दों की तो सचमुच क़ीमत है

 

जो ख़ुशियाँ हम बाँटें वो हम को ही ख़ुशी दे जाती हैं

जो भी हम देते हैं वो फिर लौट हमीं तक आती हैं