The Streamlet 

James W.Whilt

About The Author

James W.Whilt was born on January 8, 1878, in Benton County, Minnesota. He moved to Fort Benton, Montana in 1900 and became a cowboy. He spent 30 years in Glacier National Park as a guide, caretaker, and trapper

More about ‘James’: Wikipedia_James W.Whilt

220px-James_William_Whilt_in_1917_edited.jpg

The Streamlet

James W.Whilt

Tell me little streamlet,

As you onward flow;

Why in such a hurry,

Whither do you go?

 

The stream slowed up a moment

Within the alder's shade;

"I go to join my brothers,

And of us are rivers made.

 

We water the hills and meadows,

We turn the mills' great wheel,

We carry logs to the mill-dam,

Where they're cut by teeth of steel.

 

We furnish power for the motor

That pulls the railroad train;

And after they have used our power,

It is given back again.

 

So you see we enjoy working,

That's why we laugh all day,

For when one's heart is in one's work,

Why! work is greatest play!

(That's why we laugh all day)

 

And growing broader and deeper,

We carry ships on our breasts,

'Till at last we reach the ocean,

And there we have time to rest."

एक छोटी धारा

लेखक :
जेम्स डब्ल्यू व्हिल्ट 
Transcreated By: 'Ambar' Kharbanda

कहाँ चली! मैंने पूछा नदिया की छोटी धारा से

क्या तेरी मंज़िल है बता, कुछ बोल तुझे जाना है कहाँ

इतनी जल्दी में क्यों है तू, यूँ ही बहती जाती है

कहाँ चली तू, राह तके है तेरा अपना कौन वहाँ

(कहाँ तेरी मंज़िल है बता, कुछ बोल तुझे जाना है कहाँ)


 

वो बोली मिलना है मुझे अपनी जैसी धाराओं से

हम सब मिल कर एक नदी के रूप में आगे बढ़ते हैं

दिल में अपने जोश लिए साहस, उमंग से भरे हुए

बिना रुके बढ़ते जाते हम काम निराले करते हैं

(हम सब मिल कर एक नदी के रूप में आगे बढ़ते हैं)


 

घाटी और पर्वतों को हम पानी जी भर देते हैं

मैदानों की प्यास बुझाने की भी कोशिश करते हैं

हमको देखो हम करते हैं बात तरक़्क़ी की अक्सर

हम लोगों के जीवन को ख़ुशहाली से भर देते हैं

 

हँसते-गाते मस्ती में हम यूँ ही चलते जाते हैं

अपना काम बख़ूबी कर के सागर में मिल जाते हैं

अगर काम में दिल लग जाए जीवन सफल हुआ समझो

पूरे दिल से काम करें सब, हम सबको समझाते हैं

(अपना काम बख़ूबी कर के सागर में मिल जाते हैं

पूरे दिल से काम करें सब, हम सबको समझाते हैं)