What Life
Should Be

Pat A. Fleming

About The Author

Pat A. Fleming was the middle child of three and had a middle-class upbringing. She worked as a psychiatric social worker for 36 years and after retiring, she began writing inspirational poems about life.

 

About The Poem

The poem "What Life Should Be" argues what it means to be a human. She uses many different strategies to make the point across to the reader. In Fleming's poem, each stanza has an arrangement of different character traits that everyone should try and achieve. Each and every person should lead a remarkable and rememberable life.

What Life Should Be

by:
Pat A. Fleming

To learn while still a child

What this life is meant to be.

To know it goes beyond myself,

It’s so much more than me.

 

To overcome the tragedies,

To survive the hardest times.

To face those moments filled with pain,

And still manage to be kind.

 

To fight for those who can’t themselves,

To always share my light.

With those who wander in the dark,

To love with all my might.

 

To still stand up with courage,

Though standing on my own.

To still get up and face each day,

Even when I feel alone.

 

To try to understand the ones

That no one cares to know.

And make them feel some value

When the world has let them go.

 

To be an anchor, strong and true,

That person loyal to the end.

To be a constant source of hope

To my family and my friends.

 

To live a life of decency,

To share my heart and soul.

To always say I’m sorry

When I’ve harmed both friend and foe.

 

To be proud of whom I’ve tried to be,

And this life I chose to live.

To make the most of every day

By giving all I have to give.

 

To me that’s what this life should be,

To me that’s what it’s for.

To take what God has given me

And make it so much more

 

To live a life that matters,

To be someone of great worth.

To love and be loved in return

And make my mark on Earth.

कैसा हो जीवन 

लेखक : 
पैट ए. फ्लैमिंग
Transcreated By:
'Ambar' kharbanda

क्या हो और कैसी हो ज़िंदगी जिसने इतना जान लिया,

उसने दुनिया में जीने का हर पहलू पहचान लिया,

मुश्किल वक़्त भी आते हैं, दुःख और दर्द भी मिलते हैं,

जिसने ये सब समझ लिया उसने जीवन को जान लिया...

(उसने दुनिया में जीने का हर पहलू पहचान लिया,)

 

हर एक कि क़िस्मत में तो सुनो! सुख की लहरें उठती ही नहीं,

ऐसे भी हैं कुछ जिनको कोई आशा की किरण दिखती ही नहीं,

जो अँधियारे में जीते हैं रहते हैं घोर निराशा में,

जिनके दिल में भूले से भी उम्मीद कोई पलती ही नहीं...

(ऐसे भी हैं कुछ जिनको कोई आशा की किरण दिखती ही नहीं,)

 

ऐसे लोगों के जीवन में, मैं ज़रा उजाला कर पाऊँ,

ऐसे लोगों के जीवन के ख़ाली कोने को भर पाऊँ,

उनके सुख दुःख में, मैं शामिल हो पाऊँ तो क्या अच्छा हो,

मैं अगर अभागे लोगों की पीड़ा को कुछ कम कर पाऊँ...

(ऐसे लोगों के जीवन के ख़ाली कोने को भर पाऊँ)

 

मेरे जीवन का सही अर्थ जो मैंने समझा, जाना है,

हाँ, इस जीवन का लक्ष्य यही बस अब तक ये पहचाना है,

मुझको जो कुछ भी मिला है वो मैं बाँटू उन सब लोगों में,

जिन लोगों ने अब तक जीने का स्वाद नहीं कुछ जाना है...

(हाँ, इस जीवन का लक्ष्य यही बस अब तक ये पहचाना है,)

 

ऐसे ही इंसान को कोई याद करेगा दुनिया में,

ऐसे ही इंसान का मित्रो! नाम रहेगा दुनिया में,

जिसने अपने जीवन को जीते जी यहाँ पहचान लिया,

ऐसा ही इंसान कोई मर कर भी रहेगा दुनिया में...

(ऐसे ही इंसान का मित्रो! नाम रहेगा दुनिया में,)